Tahzeeb Hafi Shayari ❤️ in Hindi | तहज़ीब हाफी शायरी

|


Hindi Kala presents Viral Pakistani Shayar Tahzeeb Hafi Shayari in Hindi with English Lyrics & Translation. Collection of his all-famous Ghazals & Sher.

Tahzeeb Hafi | तहज़ीब हाफ़ी

Tahzeeb Hafi Shayari | तहज़ीब हाफी शायरी

Tahzeeb Hafi Shayari | तहज़ीब हाफी शायरी

Tahzeeb Hafi Shayari | तहज़ीब हाफी शायरी

Ajeeb Khawaab Tha Uske Badan Mein Kaayi Thi | अजीब ख़्वाब था उस के बदन में काई थी

अजीब ख़्वाब था उस के बदन में काई थी
वो इक परी जो मुझे सब्ज़ करने आई थी

वो इक चराग़-कदा जिस में कुछ नहीं था मेरा
वो जल रही थी वो क़िंदील भी पराई थी

न जाने कितने परिंदो ने इस में शिरकत की
कल एक पेड़ की तरक़ीब-ए-रू-नुमाई थी

हवाओ आओ मिरे गाँव की तरफ देखो
जहाँ ये रेत है पहले यहाँ तराई थी

किसी सिपाह ने ख़ेमे लगा दिये है वहाँ
जहाँ ये मैं ने निशानी तिरी दबाई थी

गले मिला था कभी दुख भरे दिसम्बर से
मिरे वजूद के अंदर भी धुँद छाई थी

English Translation

Leave a Comment

%d bloggers like this: