ग़ालिब होना है Ghalib Hona Hai Lyrics in Hindi – Armaan Malik

|


Ghalib Hona Hai Lyrics in Hindi sung by Armaan Malik from Sanjay Leela Bhansali’s first-ever original music album Sukoon (2022). The song is written by A. M. Turaz and music composed by Sanjay Leela Bhansali. Featuring Armaan Malik and Sharmin Segal.

Ghalib Hona Hai Song Details

Ghalib Hona Hai Lyrics in Hindi – A.M. Turaz

इश्क़ तेरी आँखों में लिखा
पढ़ने दे ज़रा
हम को भी ग़ालिब होना है
हम को भी ग़ालिब होना है
इन ग़ज़लों सी आँखों में खोना है

इश्क़ तेरी आँखों में लिखा
पढ़ने दे ज़रा
हम को भी ग़ालिब होना है
हम को भी ग़ालिब होना है
इन ग़ज़लों सी आँखों में खोना है
इश्क़ तेरी आँखों में लिखा

ग़ज़लें हम तुझ पे लिखते रहे
हो ग़ज़लें हम तुझ पे लिखते रहे
शायर बन बन के उगते रहे
तेरा चहेरा कोई किताब सा है
तेरा मिलना कोई ख्वाब सा है
इस ख्वाब में खुद को डुबोना है

इश्क़ तेरी आँखों में लिखा
पढ़ने दे ज़रा
इश्क़ तेरी आँखों में लिखा

तेरे होंठों से शेर बरसते हैं
हो तेरे होंठों से शेर बरसते हैं
हम बातों को तेरी तरसते हैं
तेरा हम से कलम जो हो जाए
तो हमारा नाम भी हो जाए
तेरी पलकों में खुद को पेरॉना है

इश्क़ तेरी आँखों में लिखा
पढ़ने दे ज़रा
हम को भी ग़ालिब होना है
हम को भी ग़ालिब होना है
इन ग़ज़लों सी आँखों में खोना है
इश्क़ तेरी आँखों में लिखा

More Songs You May Like:
द हिक सोंग The Hic Song
दिल का पता Dil Ka Pata
अल्कोहलिया Alcoholia
जयकाल महाकाल Jaikal Mahakal
ले सजना Le Sajna
मनिके Manike
वासलड़ी Vasaladi
तू बनके हवा Tu Banke Hawa
इश्क इश्क करके Ishq Ishq Karke
ढोल बजा Dhol Bajaa

Ghalib Hona Hai Lyrics in English

Ishq teri ankhon mein likha
Padhne de zara
Hum ko bhi ghalib hona hai
Hum ko bhi ghalib hona hai
In ghazlon si ankhon mein khona hai

Ishq teri ankhon mein likha
Padhne de zara
Hum ko bhi ghalib hona hai
Hum ko bhi ghalib hona hai
In ghazlon si ankhon mein khona hai
Ishq teri ankhon mein likha

Ghazlein hum tujh pe likhte rahe
Ho gazlein hum tujh pe likhte rahe
Shayar ban ban ke ugte rahe
Tera chehera koi kitab sa hai
Tera milna koi khwab sa hai
Is khwaab mein khud ko dubona hai

Ishq teri ankhon mein likha
Padhne de zara
Ishq teri ankhon mein likha

Tere honthon se sher baraste hain
Ho tere honthon se sher baraste hain
Hum baaton ko teri taraste hain
Tera hum se kalam jo ho jaye
To hamara naam bhi ho jaye
Teri palkon mein khud ko perona hai

Ishq teri aankhon mein likha
Hum ko bhi ghalib hona hai
Hum ko bhi ghalib hona hai
In ghazlon si ankhon mein khona hai
Ishq teri ankhon mein likha
Ishq teri aankhon mein likha

Share this post with your Friends & Family:

Leave a Comment

%d bloggers like this: